बाहुबली विधायक अनंत सिंह के घर छापे में एके-47 व दो ग्रेनेड बरामद, हो सकते हैं गिरफ्तार

0
43
पटना : बिहार के बाहुबली विधायक अनंत सिंह पर नीतीश सरकार की नज़रें टेढ़ी हो गई हैं। शुक्रवार को पटना पुलिस ने उनके लदमा गांव स्थित घर पर छापा मारकर करीब सात घंटे तक जांच-पड़ताल की। इस दौरान वहां से एक एके-47 राइफल और 26 जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं। इसके अलावा उनके घर से दो हैंड ग्रेनेड भी बरामद हुए हैं। पटना के एसपी ग्रामीण कांतेश मिश्रा ने एके-47 मिलने की पुष्टि की है। निर्दलीय विधायक के घर से आपत्तिजनक सामग्री बरामद होने के बाद पटना पुलिस ने बम स्‍क्‍वॉड के साथ ही एटीएस टीम को बुला लिया है। वहीं एनआइए को भी सूचना दे दी गई है। सूत्रों की मानें तो इस पूरे मामले को लेकर पुलिस के आला अधिकारियों की बैठक हुई है। इन मामलों को लेकर बाहुबली विधायक अनंत सिंह को कभी भी गिरफ्तार किया जा सकता है।
मोकामा से निर्दलीय विधायक अनंत सिंह के लदमा गांव स्थित घर पर पुलिस का सात घंटे तक सर्च अभियान चला। इस दौरान वहां से एक एके-47 राइफल, दो हैंड ग्रेनेड, 26 जिंदा कारतूस और मैगजीन बरामद किए गए। सर्च ऑपरेशन का नेतृत्व ग्रामीण एसपी कांतेश मिश्र कर रहे थे। टीम में बाढ़ एसडीपीओ लिपि सिंह और बीडीओ बतौर मजिस्ट्रेट शामिल थे। एसडीपीओ ने हथियारों की बरामदगी की पुष्टि की। साथ ही स्पष्ट कर दिया कि विधायक के घर में किसी तरह की तोड़फ़ोड़ नहीं की गई है और न ही किसी मामले में कुर्की-जब्ती की कार्रवाई हुई है।
दरअसल, पटना पुलिस को अनंत सिंह के घर से हथियारों की तस्करी किए जाने की जानकारी मिली थी। अधिकारियों ने इस जानकारी को पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय और एसएसपी गरिमा मलिक से साझा किया। साथ ही गुप्त तरीके से सर्च ऑपरेशन की तैयारी की गई। गुरुवार की देर रात पटना पुलिस के तेज-तर्रार इंस्पेक्टर और सब-इंस्पेक्टर बाढ़ थाने पर भेजे गए। अहले सुबह ग्रामीण एसपी भी पहुंचे। नक्शा बनाकर पुलिस टीम सुबह चार बजे अनंत सिंह के घर में दाखिल हुई। तलाशी के दौरान मकान के खपरैल हिस्से से एके-47 राइफल, पांच जिंदा कारतूस और मैगजीन मिली। इसके बाद भी तलाशी अभियान जारी रहा। इस दौरान वहां से दो हैंड ग्रेनेड और 21 जिंदा कारतूस और मिले। इसके बाद बम निरोधक दस्ते को बुलाया गया। एके-47, हैंड ग्रेनेड और कारतूसों की जब्ती कार्रवाई भी मौके पर की गई। पुलिस ने वीडियोग्राफी भी कराई। साथ ही पुलिस टीम ने एके-47 मिलने के बाद एनआइए, बिहार एसटीएफ और एटीएस को भी इसकी जानकारी दे दी। एसएसपी गरिमा मलिक ने बताया कि हथियार मिलने की जानकारी हुई है। इसी आधार पर आगे की कार्रवाई की जा रही है।
तलाशी के दौरान पुलिस को एक बंद कमरे से एके-47 राइफल मिली। इसे बक्से में छिपाकर रखा गया था। राइफल कार्बन पेपर में लपेटकर रखी गई थी। सर्च ऑपरेशन के दौरान पुलिस ने अनंत सिंह के नए व पुराने घरों एवं गौशाला का कोना-कोना खंगाल डाला। विधायक के आवास के सामने बने सामुदायिक भवन की भी तलाशी ली गई।
सर्च ऑपरेशन के दौरान विधि-व्यवस्था की समस्या ना उत्पन्न हो, इसके लिए पुलिस ने पूरी तैयारी कर रखी थी। कुल 22 थानों की पुलिस को टीम में शामिल किया गया। पुलिसकर्मियों के सेलफोन जब्त कर बंद करा दिए गए थे।
हथियार जिस खपरैल कमरे से बरामद हुआ है, वह अनंत सिंह के घर का हिस्सा है या नहीं, इसके लिए देर शाम अंचलाधिकारी, कर्मचारी और सरकारी अमीन को नक्शे के साथ बुलाया गया। रात तक मकान की पैमाइश होती रही। उनके घर के कागजात भी मंगाए गए थे। इस दौरान कई बार बिजली गुल हो गई। इस वजह से पैमाइश में परेशानी भी हुई।
एके-47 और ग्रेनेड की बरामदगी के बाद एटीएस (आतंक निरोधक दस्ता) की टीम फिल्मी अंदाज में एंबुलेंस से पहुंची। मकान के पास आने से पहले चालक ने एंबुलेंस को घुमा लिया और बैक गियर में आने लगा। एंबुलेंस चालक की हरकत को देखकर मौके पर मौजूद बल चौकन्ना हो गया। तभी एंबुलेंस से एक निरीक्षक बाहर निकला और एएसपी को अपना परिचय दिया। तब वाहन को मकान तक आने की अनुमति दी गई।
बता दें कि अनंत सिंह की पत्‍नी नीलम देवी लोकसभा का चुनाव मुंगेर से लड़ी थीं। उनका मुकाबला जदयू के ललन सिंह से था। इसमें ललन सिंह भारी मतों से जीते थे। इधर, छोपमारी के बाबत विधायक अनंत सिंह ने जदयू सांसद ललन सिंह पर बड़ा अारोप लगाया है। उन्‍होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह सब जदयू सांसद ललन सिंह के इशारे पर हो रहा है। मेरे खिलाफ साजिश की जा रही है। उन्‍होंने कहा कि ललन सिंह नहीं चाहते हैं कि मैं 2020 में बिहार विधानसभा का चुनाव लड़ूं।