आजम खां के हमसफ़र रिजॉर्ट पर चला बुलडोजर, तोड़ी गई दीवार

0
83
रामपुर : सिंचाईं विभाग की एक हजार गज जमीन पर अवैध कब्जा कर हमसफ़र रिजॉर्ट की दीवार खड़ा करने वाले समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां के खिलाफ जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है। जिला प्रशासन ने शुक्रवार को सांसद आजम खां के हमसफर रिजॉर्ट की दीवार पर बुलडोजर चलवा दिया। इस दौरान विरोध को देखते हुए भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया था।
सपा सांसद आजम खां का जौहर यूनिवर्सिटी रोड पर ही हमसफ़र रिजॉर्ट है। सिंचाई विभाग का आरोप है कि सपा सांसद आजम खां ने विभागीय नाले की करीब एक हजार गज़ जमीन कब्जा कर उस पर रिजॉर्ट की बाउंड्री खड़ी कर दी थी। इससे बढ़कुशिया नाला बंद हो गया था। सिंचाई विभाग ने इस संबंध में उपजिलाधिकारी सदर प्रेम प्रकाश तिवारी के न्यायालय में वाद दायर किया था। तीन सप्ताह पहले उपजिलाधिकारी ने अतिक्रमण को हटा देने का आदेश दिया था, लेकिन इसके बाद भी अतिक्रमण नहीं हटाया गया। शुक्रवार की सुबह उपजिलाधिकारी प्रेम प्रकाश तिवारी, एसडीओ सिंचाई सिकंदर खान अपनी पूरी टीम के साथ पांच बुलडोजर और भारी पुलिस फोर्स के साथ हमसफर रिजॉर्ट पहुंचे। इसके बाद दीवार तोड़ने की कार्रवाई शुरू हुई और नाले की जमीन पर बनी दीवार को तोड़ दिया गया। कार्रवाई के दौरान जौहर यूनिवर्सिटी रोड की ओर आने वाला मार्ग भी दो घंटे तक बंद रहा। सिंचाई विभाग का कहना है कि 1000 वर्ग गज जमीन पर अवैध कब्जा किया गया था। एसडीएम ने बताया कि 300 मीटर की दीवार अभी तोड़ी गई है। जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने बताया कि नाले पर अतिक्रमण था। उसको हटवा दिया गया है।
रामपुर के डीएम आंजनेय कुमार सिंह ने कहा कि दीवार के मलबे में मिली ईंटों की प्रशासन जांच कराएगा। सूचना मिली है दीवार के मलबे में पुरानी ईंटे भी मिली हैं। संभावना है कि किसी और बिल्डिंग को तोड़कर उसकी ईंटे लगाई गई हैं। मलबे में मिली पुरानी ईंटों की कमेटी द्वारा जांच कराई जाएगी।
सपा सांसद आजम खां पर आरोप है कि उन्होंने अखिलेश यादव की सरकार के दौरान सिंचाई विभाग के नाले की एक हजार गज जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया था। सिंचाई विभाग इस मामले में कई बार आजम खां को नोटिस भी जारी किया था, लेकिन सपा सांसद ने नोटिस का कोई जवाब नहीं दिया था।
गौरतलब है कि रामपुर के सांसद और समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खां पर रामपुर प्रशासन का शिकंजा दिनोंदिन कसता ही जा रहा है। आजम खां को पहले रामपुर का भू-माफिया घोषित किया गया। इसके बाद जौहर यूनिवर्सिटी के मुख्य द्वारा को ध्वस्त करने का आदेश जारी किया गया। इसके बाद
उनके हमसफ़र रिजॉर्ट की अवैध रूप से बनी बाउंड्री को बुलडोजर से तोड़ दिया गया। उनके खिलाफ जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीन कब्जाने के 29 मुकदमे दर्ज कराए जा चुके हैं। प्रशासन उन्हें भूमाफिया भी घोषित कर चुका है। यूनिवर्सिटी के गेट को तोड़ने के आदेश भी हो चुके हैं। हालांकि गेट का मामला अभी न्यायालय में विचाराधीन है।
जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिह ने बताया कि हमसफर रिजॉर्ट में 1000 गज जमीन पर कब्जा किया गया है। यह जमीन पसियापुरा शुमाली से बड़कुसिया नाले की है। नाले पर कब्जे से पानी निकासी बाधित हो रही थी। सिंचाई विभाग की ओर से अवैध कब्जा हटाने के लिए नोटिस दिया गया है। इसे नहीं हटाया गया तो बुलडोजर से तोड़ा जा रहा है। रिजॉर्ट के पास ही पार्किंग के लिए भी अवैध कब्जा किया गया है। इसका भी मुकदमा एसडीएम कोर्ट में चल रहा है।
समाजवादी पार्टी के शासनकाल में आजम खां ने इस लग्जरी हमसफर रिजॉर्ट का निर्माण करोड़ो की लागत से करवाया था। आजम खां के घर से तीन किलोमीटर दूर स्थित इस रिजॉर्ट का लोकार्पण पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने किया था।