बिहार में भी ‘निर्भया’ कांड, नाबालिग के साथ बलात्कार के बाद हैवानियत

0
58
पटना : बिहार के छपरा जिले में भी दिल्ली की ‘निर्भया’ जैसा एक मामला सामने आया है। यहां शनिवार को एक नाबालिग लड़की से बलात्कार करने के बाद उसके साथ ‘दिल्ली की निर्भया’ जैसा सलूक किया गया तथा उसके प्राइवेट पार्ट में लोहे का रॉड डाल दिया। हद तो तब हो गई, जब उसे गंभीर हालत में छपरा सदर अस्पताल से पीएमसीएच (पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पीटल) रेफर किया गया। वहां पर डॉक्टरों ने पीड़ित लड़की का तब तक इलाज करने से इनकार कर दिया, जब तक एफआईआर की कॉपी मिल नहीं जाती। डॉक्टरों के इस रवैये के कारण पीड़ित लड़की करीब तीन घंटे तक दर्द से कराहती रही। बाद में सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन बताने तथा मीडिया की सुर्खियां बनने के बाद डॉकटरों ने पीड़ित लड़की का इलाज शुरू किया।

इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि तीसरा आरोपी आईटीबीपी का जवान फरार है। पुलिस तीसरे आरोपी को पकड़ने के लिए दबिश दे रही है। उधर, सारण एसपी ने पीड़ित लड़की के प्राइवेट पार्ट में रॉड घुसेड़े जाने की घटना से इनकार किया है, जबकि गैंग रेप की पुष्टि की है।

जानकारी के अनुसार छपरा में शनिवार को एक नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उसके प्राइवेट पार्ट में लोहे की रॉड घुसेड़ देने की शर्मनाक घटना हुई है। बाद में लड़की को किसी तरह घर पहुंचकर अचेत हो गई। बेहोशी की हालत में परिजनों ने उसे छपरा सदर अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उसे गंभीर हालत में पटना के पीएमसीएच भेज दिया गया। इस बीच पुलिस एफआईअार की औचपारिकता में जुटी रही।
उधर, घटना का दूसरा शर्मनाक पहलु पटना के पीएमसीएच में देखने को मिला। बुरी तरह घायल लड़की का तत्‍काल इलाज करने से पीएमसीएच के डॉक्‍टरों ने इनकार कर दिया। वे इलाज के पहले एफआईआर की कॉपी लेने केे लिए अड़ गए। परिजनों ने बार-बार आग्रह किया कि एफआइआर कॉपी आ ही जाएगी, इलाज तो शुरू कीजिए, लेकिन वे नहीं माने। बाद में जब मामला मीडिया में गया तो डॉक्‍टरों को सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन याद आई और इलाज शुरू हुआ। पीएमसीएच में डॅक्‍टरों ने पुलिस अौपचारिकता के नाम पर तीन घंटे तक इलाज शुरू नहीं किया। इस बीच घायल लड़की तड़पती रही।
सारण के एसपी हर किशोर राय ने लड़की से सामूहिक दुष्‍कर्म की घटना को तो स्‍वीकार करते हैं, लेकिन प्राइवेट पार्ट में लोहे की रॉड डालने की घटना से इनकार करते हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस ने दो आरोपितों सोनू व आतिश को गिरफ्तार कर लिया है। तीसरे आरोपी आईटीबीपी के जवान की तलाश जारी है। उन्‍होंने बताया कि पुलिस ने घटनास्थल की जांच के लिए फोरेंसिक टीम को भी बुलाया है

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बयान दर्ज करवाने के लिए नगर थाने की पुलिस और महिला थानाध्यक्ष को पटना भेज दिया गया है। पुलिस का कहना है कि मामले में जब तक बयान दर्ज नहीं हो जाता, तब तक घटना के बारे में स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता।
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता के पड़ोसियों का कहना है कि यह घटना शनिवार की दोपहर की है। लड़की के साथ बलात्कार हुआ था। जब वह रोते हुए अपने घर पहुंची थी, तब वह खून से लथपथ थी। उसकी हालत देखकर उसके घर वाले घबरा गए। इसके बाद वह उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल लेकर गए, जहां पर उसे भर्ती कर लिया गया। जब पीड़िता को होश आया तो उसने अपने साथ हुई घटना की जानकारी पुलिस के अधिकारियों को दी।