मेरठ में थाने के गेट पर व्यापारी ने किया आत्मदाह, गंभीर हालत में दिल्ली रेफर

0
38
मेरठ : टीपी नगर पुलिस के रवैये से नाराज एक स्पोर्ट्स व्यापारी ने बुधवार की रात थाने के गेट पर पेट्रोल डालकर आत्मदाह कर लिया। गंभीर हालत में उसे पहले मेरठ के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से उसे सफदरजंग अस्पताल दिल्ली रेफर कर दिया गया। एसएसपी ने आरोपी विवेचक के खिलाफ जांच बैठा दी है।
शताब्दीनगर सेक्टर-5 निवासी रंजीत सिंह ठाकुर व जय कुमार पार्टनरशिप में स्पोर्ट्स का काम करते हैं। उनका खाता नवीन मंडी स्थित पंजाब नेशनल बैंक की शाखा में है। आरोप है कि आठ माह पहले बैंक मैनेजर ने उसके खाते की गोपनीय जानकारी लीक कर दी। जिस कारण उन्हें आर्थिक नुकसान हो गया। इस मामले को लेकर रंजीत सिंह ने टीपीनगर थाने में तहरीर दी थी। काफी प्रयास के बावजूद पुलिस ने केस नहीं दर्ज किया। व्यापारी ने दिसंबर 2018 में टंकी पर चढ़कर आत्महत्या करने की धमकी दी थी, उसके बाद ही मुकदमा दर्ज हुआ था।
आरोप है कि पुलिस ने उसके मुकदमे में बैंक अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं की। इसके बावजूद वह पिछले छह माह से टीपी नगर थाने का चक्कर काट रहा था।
बुधवार की सुबह भी रंजीत सिंह ठाकुर कई बार थाने पहुंचा, लेकिन इंस्पेक्टर ने मुलाकात नहीं की। आरोप है कि केस के विवेचक दरोगा नरेंद्र कुमार ने व्यापारी को फटकार दिया। थाने से दुत्कार मिलने से आहत व्यापारी ने रात करीब 9.45 बजे फिर थाने पहुंचा। आरोप है कि इस बार भी उसे फटकार लगाते हुए थाने से बेइज्जत कर उसे भगा दिया। इससे क्षुब्ध होकर रंजीत सिंह ने थाने के गेट पर खड़ी अपनी बाइक से पेट्रोल निकाला और खुद पर उड़ेलकर आग लगा ली। इस दौरान उसकी बाइक में भी आग लग गई। आग लगते ही भगदड़ मच गई। पुलिस ने व्यापारी को केएमसी अस्पताल में भर्ती कराया। इस घटना में व्यापारी 80 प्रतिशत झुलस गया है। उसकी हालत बेहद गंभीर है। उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर किया गया है।
एसएसपी अजय साहनी ने बताया कि व्यापारी की ओर से एक मुकदमा दर्ज है। व्यापारी जबरन बैंक मैनेजर पर कार्रवाई करने की जिद कर रहा था। उसने पेट्रोल उड़ेलकर आग लगा ली है। विवेचक दरोगा की जांच कराई जा रही है।