मेरठ के खरखौदा में दूल्हे समेत दो सौ बारातियों को बंधक बनाया

0
51
मेरठ : जिले में एक बार फिर से बारात को बंधक बनाने का मामला सामने आया है। इस बार दान-दहेज को लेकर नहीं, बल्कि दूल्हे के प्रेम प्रसंग को लेकर दो सौ बारातियों को बंधक बनाया गया है। पुलिस के पहुंचने पर भी दोनों पक्षों ने समझौते से इनकार कर दिया। पुलिस मौके पर ही मौजूद है।

बाद में नौ लाख रुपये लड़की पक्ष को देने परर सहमति बनी, इसके बाद ही बारातियों को छोड़ा गया।

घटना खरखौदा थानाक्षेत्र की है। मेरठ के परतापुर थाना क्षेत्र से बारात पांची गांव में लड़की पक्ष के घर पहुंची थी। दूल्हा-दुल्हन सात फेरे लेने ही वाले थे कि अचानक दूल्हे की प्रेमिका अपनी ढाई साल की बेटी को लेकर मंडप में पहुंच गई और मासूम को दूल्हे की बेटी बताते हुए उसकी गोद में रख दिया। बस फिर क्या था। ग्रामीणों ने पूरी बारात को बंधक बना लिया और शादी रुकवा दी।

सूत्रों के अनुसार, दूल्हे के तीन साल पहले अपनी ही रिश्तेदारी की एक युवती से प्रेम संबंध बन गए थे, लेकिन उसने शादी से इनकार कर दिया। इसके बाद युवती की शादी कहीं और कर दी गई, लेकिन जब उसके पति को उसके प्रेम संबंधों के बारे में जानकारी हुई तो उसने भी पत्नी को स्वीकार करने से इनकार कर दिया। इसी दौरान वह एक बच्ची की मां भी बन गई।
बताया गया कि बुधवार की शाम को चढ़त होने के बाद जैसे ही दूल्हा पांची गांव में दुल्हन पक्ष के घर पहुंचा तभी उसकी प्रेमिका अपनी ढाई साल की बच्ची के साथ मंडप में पहुंच गई और बच्ची को दूल्हे की गोद में यह कहते हुए बैठा दिया कि यह उसकी बेटी है। इस दौरान प्रेमिका ने जमकर हंगामा किया। साथ ही बारात में आई महिलाओं के साथ मारपीट भी की। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और मामला शांत कराया। वहीं ग्रामीणों ने दूल्हे और उसके पिता समेत दो सौ बारातियों को बंधक बना लिया तथा किसी भी तरह के समझौते से इनकार कर दिया। बुधवार रात से गुरुवार दोपहर तक दूल्हे समेत सभी बाराती पांची गांव में बंधक बने रहे, जबकि गुरुवार को भी खरखौदा और परतापुर पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन दुल्हन पक्ष ने समझौते से इनकार कर दिया। वहीं मामले में दोनों पक्षों की पंचायत बैठी। पंचायत में वधु पक्ष को नौ लाख रुपये देने पर सहमति बनी है। इसके बाद ही दूल्हे और बारातियों को छोड़ा गया। इस अजीबोगरीब मामले की क्षेत्र में काफी चर्चा है।