छात्रा ने स्कूल जाना बंद नहीं किया तो कर दी हत्या, परिजनों ने छोड़ा गांव

0
130
मुजफ्फरपुर : इंटर की एक छात्रा ने स्कू्ल जाना बंद नहीं किया तो उसकी हत्या कर दी गई। इस मामले में सात लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ कर रही है। इस घटना के बाद पीड़ित परिजनों के गांव से पलायन कर जाने की खबर है। पुलिस फरार आरोपियों को पकड़ने के लिए दबिश दे रही है।

यह घटना मुजफ्फरपुर जिला के मोतीपुर प्रखंड के कथैया थाना क्षेत्र के सघनपुरा गांव की है। स्कूल जाने को लेकर छात्रा आशा कुमारी (17) की हत्या शुक्रवार की रात कर दी गई तथा साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से उसका शव भी जला दिया गया। वह जैतपुर कॉलेज में इंटर की छात्रा थी। इस घटना को अंजाम देने का आरोप सात लोगों पर लगा है। इनमें से चार आरोपियों को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि तीन आरोपी फरार चल रहे हैं। पुलिस पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ कर रही है।छात्रा के भाई बबन राय ने इस मामले में नंदकिशोर राय, शांतिलाल राय, मुंशीलाल राय, पप्पू कुमार, सोनू राय, अवधेश राय, राजन राय और बाबूलाल राय के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। बबन राय ने कहा कि आरोपी पप्पू कुमार और राजन राय अक्सर मोबाइल फोन पर कॉल कर प्राचार्य को भी छात्रा को नहीं पढ़ाने के लिए धमकी देते थे। बताया यह भी जा रहा है कि उसकी जाति के लोग मैट्रिक के आगे लड़कियों को नहीं पढ़ाते हैं। आशा इंटरमीडिएट में पढ़ रही थी, जो आरोपियों को नागवार गुजरी। छात्रा की हत्या का मामला गरमाता जा रहा है। हत्या से भयभीत परिजन अनहोनी को लेकर घर बंद कर गांव से पलायन कर गए हैं। पुलिस ने मामले के तीन आरोपियों नंदकिशोर राय, शांतिलाल राय और मुंशीलाल राय को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी हो रही है। बबन राय ने कहा कि आरोपी उसे शुरू से ही धमकी दे रहे थे कि अगर आशा ने स्कूल जाना बंद नहीं किया तो उसे और उसके परिवार को गंभीर अंजाम भुगतना पड़ेगा। आरोपियों ने आशा को पढ़ाने वाले टीचर को भी धमकी देकर उसका नाम स्कूल से काट देने के लिए कहा था। बबन ने प्राथमिकी में यह भी आरोप लगाया है कि आरोपियों ने उसे और उसकी पत्नी को अपने ही घर में कई घंटों तक बंधक बनाकर रखा।

आशा वर्ष 2018 में मैट्रिक परीक्षा प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण की थी। इसके बाद उसने जैतपुर कॉलेज में नामांकन कराया था। ग्रामीण रामनाथ पांडेय ने बताया कि आशा शांत व मृदुभाषी लड़की थी। पढ़ने में उसकी अच्छी रुचि थी। लोगों को उसकी हत्या कर शव जलाने की भनक तक नहीं लगी। थानाध्यक्ष सुनील कुमार के अनुसार पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

मुजफ्फरपुर : इंटर की एक छात्रा ने स्कू्ल जाना बंद नहीं किया तो उसकी हत्या कर दी गई। इस मामले में सात लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया गया है। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ कर रही है। इस घटना के बाद पीड़ित परिजनों के गांव से पलायन कर जाने की खबर है। पुलिस फरार आरोपियों को पकड़ने के लिए दबिश दे रही है।
यह घटना मुजफ्फरपुर जिला के मोतीपुर प्रखंड के कथैया थाना क्षेत्र के सघनपुरा गांव की है। स्कूल जाने को लेकर छात्रा आशा कुमारी (17) की हत्या शुक्रवार की रात कर दी गई तथा साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से उसका शव भी जला दिया गया। वह जैतपुर कॉलेज में इंटर की छात्रा थी। इस घटना को अंजाम देने का आरोप सात लोगों पर लगा है। इनमें से चार आरोपियों को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि तीन आरोपी फरार चल रहे हैं। पुलिस पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ कर रही है।
छात्रा के भाई बबन राय ने इस मामले में नंदकिशोर राय, शांतिलाल राय, मुंशीलाल राय, पप्पू कुमार, सोनू राय, अवधेश राय, राजन राय और बाबूलाल राय के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। बबन राय ने कहा कि आरोपी पप्पू कुमार और राजन राय अक्सर मोबाइल फोन पर कॉल कर प्राचार्य को भी छात्रा को नहीं पढ़ाने के लिए धमकी देते थे। बताया यह भी जा रहा है कि उसकी जाति के लोग मैट्रिक के आगे लड़कियों को नहीं पढ़ाते हैं। आशा इंटरमीडिएट में पढ़ रही थी, जो आरोपियों को नागवार गुजरी। छात्रा की हत्या का मामला गरमाता जा रहा है। हत्या से भयभीत परिजन अनहोनी को लेकर घर बंद कर गांव से पलायन कर गए हैं। पुलिस ने तीन आरोपियों नंदकिशोर राय, शांतिलाल राय और मुंशीलाल राय को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी हो रही है। बबन राय ने कहा कि आरोपी उसे शुरू से ही धमकी दे रहे थे कि अगर आशा ने स्कूल जाना बंद नहीं किया तो उसे और उसके परिवार को गंभीर अंजाम भुगतना पड़ेगा। आरोपियों ने आशा को पढ़ाने वाले टीचर को भी धमकी देकर उसका नाम स्कूल से काट देने के लिए कहा था। बबन ने प्राथमिकी में यह भी आरोप लगाया है कि आरोपियों ने उसे और उसकी पत्नी को अपने ही घर में कई घंटों तक बंधक बनाकर रखा।
आशा वर्ष 2018 में मैट्रिक परीक्षा प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण की थी। इसके बाद उसने जैतपुर कॉलेज में नामांकन कराया था। ग्रामीण रामनाथ पांडेय ने बताया कि आशा शांत व मृदुभाषी लड़की थी। पढ़ने में उसकी अच्छी रुचि थी। लोगों को उसकी हत्या कर शव जलाने की भनक तक नहीं लगी। थानाध्यक्ष सुनील कुमार के अनुसार पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।