मुजफ्फरपुर कांड की गवाह समेत सात लड़कियां मोकामा से लापता, हड़कंप

0
209
पटना : बिहार के बालिका संरक्षण गृहों में बालिकाओं के उत्पीड़न के साथ ही नये -नये मामले लगातार उजागर हो रहे हैं। नया मामला मोकामा स्थित बालिका संरक्षण गृह का है। यहां रह रहीं मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड की गवाह पांच लड़कियों समेत सात लड़कियां गायब हैं। सभी पांचों लड़कियां मुजफ्फरपुर कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के खिलाफ गवाह हैं। पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज करने के साथ ही जांच शुरू कर दी है।

पुलिस के अनुसार इन लड़कियों को लेकर उनके साथियों से भी पूछताछ की जा रही है। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने लापता हुई सात लड़कियों में से छह लड़कियों को ढूंढ निकाला है, जबकि एक लापता लड़की की तलाश जारी है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बालिका संरक्षण गृह में मुजफ्फरनगर बालिका गृहकांड के खुलासे के बाद वहां की पांच लड़कियों को यहां रखा गया था। लड़कियों के गायब होने की खबर से जिला प्रशासन में हड़कंप मचा है। पुलिस के भी हाथ-पैर फूल रहे हैं। लड़कियों के गायब होने के बाद पुलिस ने मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है।

पटना के जिलाधिकारी कुमार रवि ने इस मामले पर समाचार एजेंसियों को प्रतिक्रिया देते हुए बताया कि मोकामा शेल्टर होम से सात लड़कियां लापता मिली हैं। पुलिस ने यह मामला दर्ज कर लिया है। हम लड़कियों की तलाश में जुटे हुए हैं। पूरी जांच के बाद ही कुछ भी कहा जा सकता है।
उल्लेखनीय है कि बीते वर्ष मुजफ्फरपुर बालिका गृह में 29 बच्चियों के साथ यौन उत्पीड़न की घटना हुई थी। इस सनसनीखेज घटना के खुलासे के बाद बिहार सहित पूरे देश में बिहार पुलिस की खिंचाई हुई थी। मुजफ्फरपुर बालिका संरक्षण गृह मामले की जांच में पता चला था कि वहां रहने वाली बच्चियों को मानसिक और शारीरिक यातनाएं दी जाती थीं। वहां रहने वाले लड़कियों ने जांच टीम को अपने साथ हुई हृदय विदारक यातनाओं के बारे में विस्तार से बताया था। सुप्रीम कोर्ट ने भी इस मामले को लेकर बिहार सरकार तथा वहां की पुलिस को जमकर फटकार लगाई थी। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद फिलहाल यह मामला दिल्ली के साकेत में स्थित पॉक्सो कोर्ट में स्थांतरित कर दिया गया है। साकेत कोर्ट ने हाल ही में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ भी सीबीआई को जांच करने के आदेश दिया है।