भदोही में व्यवसायी के घर विस्फोट में तीन मकान ढहे, 13 की मौत 

0
224
लखनऊ : पूर्वी उत्तर प्रदेश के भदोही जिले के चौरी क्षेत्र के रोटहां गांव में शनिवार की सुबह एक किराना व्यवसायी के घर में पटाखा बनाते समय विस्फोट हो गया। इस विस्फोट में व्यवसायी के मकान के साथ ही इससे सटे दो अन्य मकान भी जमींदोज हो गए। इस हादसे में मकान मालिक समेत 13 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि तीन लोगों की हालत गंभीर है। जांच में पता चला है कि किराना व्यवसायी अपने घर में अवैध रूप से पटाखा तैयार करवा रहा था। इस मामले में थानाध्यक्ष और चौकी प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है।
रोटहां निवासी इरफान मंसूरी अपने मकान में किराना की दुकान चलाता था। उसके पास पटाखा बेचने का लाइसेंस भी नहीं था। बताते हैं कि क्षेत्र के तमाम आतिशबाज उसी से पटाखे लेते थे। मकान के पिछले हिस्से में कालीन बुनाई का कारखाना भी चलता था।
शनिवार को पूर्वाह्न 11.40 बजे इरफान मंसूरी के मकान में भीषण विस्फोट हुआ। धमाके में इरफान मंसूरी (28), उसके भाई आबिद (20), कालीन की काती लेने पहुंचा अर्जुनपुर निवासी युवक सलीम (42) और पश्चिम बंगाल के माल्दा जिले के रहने वाले आठ से अधिक बुनकरों की मौत हो गई। इस हादसे में जान गंवाने वाले तीन बुनकर आजाद, आलम और कादिर सगे भाई थे। इस विस्फोट में इरफान मंसूरी के मकान से सटे मुदस्सिर की दुकान और शम्स आलम का मकान भी जमींदोज हो गए। साथ ही अपनी दुकान के सामने बैठीं मुदस्सिर की मां फात्मा और ढाई वर्षीय बेटा नवाब के अलावा माल्दा निवासी एक बुनकर घायल हो गए। घायलों को सरकारी अस्पताल से वाराणसी रेफर कर दिया गया है।
सूचना के बावजूद घटना के एक घंटे बाद तक मौके पर न तो पुलिस पहुंची और न ही फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंची। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने मलबे में दबे चार शवों को बाहर निकाला। इसके बाद एएसपी डॉ. संजय कुमार और चौरी थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। इसके बाद ही राहत और बचाव कार्य शुरू हो पाया। सूचना पर डीएम राजेंद्र प्रसाद, एसपी राजेश के अलावा मिर्जापुर डीआईजी पीयूष श्रीवास्तव भी मौके पर पहुंचे। दोपहर बाद एडीजी वाराणसी पीवी रामाराव शास्त्री भी घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस ने जांच के बाद शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।जिलाधिकारी ने कहा कि विस्फोट कैसे हुआ है, इसकी जांच कराई जा रही है। वहीं, डीआईजी मिर्जापुर पीयूष श्रीवास्तव ने बताया कि रोटहां गांव में पटाखों का कारोबार और लूम का काम होता था। कुल 13 लोग मरे हैं। घायलों का वाराणसी में इलाज कराया जा रहा है। इस मामले की छानबीन के लिए स्पेशल टीम को बुलाया गया है। तहकीकात के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि यह विस्फोट कैसे हुआ है? उधर घायल बुनकर शहंशाह (20) को वाराणसी के बीएचयू ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया है। जहां उसका इलाज चल रहा है। इस घटना में मकान मालिक इरफान मंसूरी (28), आबिद (20), कलाम (38), गफ्फार (25), आजाद (28), आलम (23), कादिर (22), इसराफिल (24), अताउर (42), मुसव्वर (23), सलीम (42) और शुबहान (25) की मौत हो गई है।
चौरी के रोटहां में शनिवार को हुए विस्फोट के मामले में एसपी ने थानाध्यक्ष अजय कुमार सिंह और चौकी प्रभारी प्रमोद कुमार को निलंबित कर दिया है। उक्त घटना में जांच के दायरे में कई विभाग आ रहे हैं। माना जा रहा है कुछ और लोगों पर कार्रवाई हो सकती है। वहीं दूसरी ओर अग्निशमन विभाग भी पुलिस महकमे से कम दोषी नहीं माना जा रहा है। चौरी समेत अन्य क्षेत्रों में खुलेआम बारूद और पटाखा के फैले कारोबार के पीछे खाकी के साथ अग्निशमन विभाग के अधिकारी की भी लापरवाही मानी जा रही है।