दिल्ली के करोल बाग स्थित होटल अर्पित में भीषण आग, 17 की मौत

0
219
नई दिल्ली : दिल्ली के करोलबाग स्थित होटल अर्पित पैलेस में मंगलवार की सुबह भीषण आग लग गई। इस हादसे में 17 लोगों की जान चली गई। इनमें सात पुरुष, एक महिला और एक बच्चा शामिल है। मरने वालों में ज्यादातर लोग देश की राजधानी दिल्ली घूमने आए म्यांमार और कोच्चि के टूरिस्ट थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, आग लगने के बाद जान बचाने के लिए कई लोग चौथी मंजिल से कूद पड़े, लेकिन उनकी जान नहीं बच पाई। मरने वालों में ज्यादातर लोग केरल से हैं। घटना की सूचना पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने हादसे पर दुख जताते हुए परिजनों को 5-5 लाख रुपये मुआवजा देने का एलान किया। दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग भी मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया।
जानकारी के मुताबिक करोलबाग के होटल अर्पित पैलेस में आग सुबह करीब साढ़े चार बजे लगी। गहरी नींद में सोए लोग इससे पहले कुछ समझ पाते, आग फैलती चली गई। इसके बाद लोगों में दहशत फैल गई। चीफ फायर ऑफिसर के मुताबिक दो लोग जान बचाने के लिए चौथी मंजिल से कूद पड़े, पर उनकी मौत हो गई। होटल में कुछ अन्य लोगों के फंसे होने की भी आशंका है। फायर ब्रिगेड रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी है। अग्निशमन विभाग के डिप्टी चीफ सुनील चौधरी ने बताया कि होटल अर्पित पैलेस में आग की चपेट में आने से 17 लोगों की मौत हुई है। हादसे में इनकम टैक्स (IT) कमिश्नर सुरेश कुमार की भी मौत हो गई है। वह मूलत: पंचकूला के रहने वाले थे तथा दिल्ली में तैनात थे। घायलों में एक विदेशी महिला भी शामिल है। वह म्यांमार की रहने वाली है। यह महिला आग से बचने के लिए कूद गई थी। उसका राम मनोहर लोहिया अस्पताल में इलाज चल रहा है। राममनोहर लोहिया अस्पताल में कुल 13 लोगों को लाया गया था। सभी को डाक्टरों ने सभी को मृत घोषित कर दिया। मारे गए लोगों में से पांच की पहचान हो गई है। इनमें से दो लोग हिंदुस्तान पेट्रोलियम के सदस्य थे। आठ लोगों की मौत दम घुटने से हुई है, जबकि अन्य की मौत जलने से हुई है।
होटल से कूदने वाली एक टूरिस्ट महिला गाइड का नाम चंचल है, जिसका अस्पताल में इलाज चल रहा है।
दिल्ली पुलिस के अनुसार होटल अर्पित की घटना में 17 लोगों की मौत हो गई है, जबकि तीन की हालत गंभीर हैं। वहीं, फायरकर्मियों ने अबतक 35 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया है। हालांकि, अभी कुछ अन्य लोगों के फंसे होने की सूचना है। राहत व बचाव कार्य जारी है। अब तक राममनोहर लोहिया अस्पताल में 17 शव लाए गए हैं, जबकि कुछ झुलसे लोगों आरएमएल, लेडी हार्डिंग के अलावा गंगाराम अस्पताल भी ले जाया गया है।
एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें एक आदमी छत से कूद कर जान बचाने की कोशिश कर रहा है।
बताया जा रहा है कि होटल में 40 कमरे हैं। केरल से आए 35 लोगों को बचाया गया है, जबकि कुछ गंभीर रूप से झुलस गए हैं। माना जा रहा है कि आग शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी है। हादसे की जानकारी पर मंत्री सत्येंद्र जैन ने करोलबाग के सभी होटलों में फायर सेफ्टी को लेकर जांच के आदेश दिए हैं। मंत्री ने कहा कि भवन उप नियमों की जमकर अनदेखी की गई है। चार की जगह बिना अनुमति पांच मंजिला इमारतें बन गई हैं।