बिहार के बड़े कारोबारी गुंजन खेमका की हाजीपुर में दिनदहाड़े हत्या 

0
279
हाजीपुर : नीतीश राज में बदमाशों का बोलबाला चरम पर है। बाइक सवार एक अपराधी ने बिहार के जाने-माने व्यवसायी गोपाल खेमका के पुत्र गुंजन खेमका की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी, जबकि उनका ड्राईवर इस हमले में गंभीर रूप से घायल है। गुरुवार को हुई इस घटना से पूरे राजनीतिक गलियारों के साथ ही आम लोगों में हड़कंप मचा है। घटना वैशाली जिले के औद्योगिक थाना क्षेत्र की बताई जा रही है। उधर मृत गुंजन खेमका के पिता गोपाल खेमका ने कहा कि पहले से कोई धमकी नहीं मिली थी। उन्होंने यह भी कहा कि कहना मुश्किल है किसने और क्यों यह वारदात को अंजाम दिया।
बताया जाता है कि गुंजन खेमका रविवार को छोड़कर सप्ताह में हर दिन पटना से हाजीपुर आते थे और यहां स्थित अपनी दोनों फैक्ट्रियों का काम देखते थे। इस दौरान उनके साथ केवल उनकी कार का चालक होता था। वे यहां पर अपनी दोनों फैक्ट्री जीके कॉटन फैक्ट्री और एक्सेल पेपर फैक्ट्री में तीन-चार घंटे रुककर काम देखते थे और शाम होने से पहले ही पटना लौट जाते थे।
बता दें कि गुरुवार को दिन में गुंजन खेमका पटना से जैसे ही हाजीपुर औद्योगिक थानाक्षेत्र में स्थित अपनी फैक्ट्री पर पहुंचे, तभी गुंजन खेमका पर बाइक सवार एक अपराधी ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं। बदमाश ने एक गोली ड्राइवर को और दो गोली गुंजन खेमका को मारीं। गोलियां लगते ही गुंजन खेमका की मौत हो गई, जबकि ड्राइवर बुरी तरह घायल हो गया। उसे हाजीपुर सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
मृतक गुंजन खेमका पटना के बड़े कारोबारी गोपाल खेमका के पुत्र थे। खेमका डिप्टी सीएम सुशील मोदी के बेहद करीबी रिश्तेदार बताए जा रहे हैं। साथ ही वे भाजपा के व्यावसायिक प्रकोष्ठ से भी जुड़े हुए थे। गोपाल खेमका पटना में एक निजी अस्पताल के मालिक होने के साथ ही कई दुकानों, मार्केट, पैथोलॉजी के मालिक है। गोपाल खेमका पटना के अरबपति व्यवसायी हैं।
खेमका की हाजीपुर इंडस्ट्रियल एरिया में मेडिकल इलाज में इस्तेमाल होने वाले कॉटन की फैक्ट्री है। खेमका गुंजन खेमका पटना से अपनी फैक्ट्री गए थे और अपराधी ने फैक्ट्री के पास ही उन्हें गोली मार दी है।
जानकारी के मुताबिक बिना नंबर की बाइक से हेलमेट लगाए एक अपराधी ने इस वारदात को उस वक्त अंजाम दिया जब खेमका की कार फैक्ट्री के गेट पर पहुंची थी। बता दें कि गुंजन खेमका पर पहले भी अपराधियों ने पटना के कंकड़बाग में हमला किया था, जिसमें वो बाल-बाल बच गए थे। मामला रंगदारी से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है।