टीम इंडिया की ऑस्ट्रेलिया पर ऐतिहासिक जीत

0
325
नई दिल्ली : टीम इंडिया ने सोमवार को एडिलेड में खेले गए रोमांच से भरे पहले टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को 31 रन से हरा कर इतिहास रच दिया। भारतीय टीम की एडिलेड पर 12 टेस्ट मैचों में यह दूसरी जीत है, जबकि इस मैदान पर भारत ने 15 साल के बाद जीत हासिल की है। इस जीत में चेतेश्वर पुजारा के साथ चारों बॉलरों ने भी गज़ब का सहयोग किया। पुजारा ने दोनों ही पारी में गज़ब का टेम्परामेंट दिखाया और पहली पारी में शतक 123 रन और दूसरी पारी में अर्द्धशतक 71 रन ठोक दिया। इसी के साथ टीम इंडिया ने चार मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है।
एडिलेड में टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और पहली और दूसरी पारी में क्रमश: 250 और 307 रन बनाए। जवाब में कंगारू टीम 235 और 291 रन पर ऑलआउट हो गई।
टीम इंडिया के लिए यह जीत इसलिए भी ऐतिहासिक साबित हुई, क्योंकि उसने 71 सालों में पहली बार ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसके घर में पहला टेस्ट मैच जीता है। ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर भारत की यह छठी टेस्ट जीत है। वर्ष 2009 के बाद ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर पहला टेस्ट जीतने वाली टीम सिर्फ टीम इंडिया है।
टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और चेतेश्वर पुजारा के जुझारू शतक की बदौलत पहली पारी में 250 रन बनाए। जवाब में ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 235 रन पर ढेर हो गई। पहली पारी के आधार पर 15 रन की बढ़त लेने के बाद टीम इंडिया ने दूसरी पारी में 307 रन बनाए और मेजबान टीम को 323 रन का लक्ष्य दिया।
लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने कड़ा संघर्ष किया, लेकिन उसकी दूसरी पारी 119.5 ओवर में 291 रन पर सिमट गई। भारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा को मैच में शानदार प्रदर्शन करने के लिए मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया। सीरीज का दूसरा टेस्ट पर्थ में 14 दिसंबर से शुरू होगा।
टीम इंडिया को एडिलेड टेस्ट के अंतिम दिन जीत के लिए 6 विकेट की जरूरत थी। वहीं ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 219 रन की दरकार थी। पांचवें व अंतिम दिन तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने टीम इंडिया को दिन की पहली सफलता दिलाई। उन्होंने शानदार बाउंसर डालकर पहली पारी के हीरो ट्रेविस हेड (14) को पवेलियन भेजा। बाएं हाथ के बल्लेबाज अपने कल के स्कोर में महज तीन रन का इजाफा कर सके। शर्मा की गेंद पर रहाणे ने हेड का अच्छा कैच लपका। इसके बाद शॉन मार्श (60) ने कप्तान टिम पैन के साथ छठे विकेट के लिए 41 रन की साझेदारी करके टीम इंडिया को परेशान करने की कोशिश की। इस बीच लंबे समय से खराब फॉर्म से जूझ रहे मार्श ने अपने टेस्ट करियर का 10वां अर्धशतक चौका लगाकर पूरा किया । इसके बाद पारी के 73वें ओवर में जसप्रीत बुमराह ने बल्लेबाज मार्श को विकेटकीपर ऋषभ पंत के हाथों कैच आउट कराया। बुमराह ने ऑफ स्टंप की लाइन पर अच्छी लेंथ गेंद डाली, जो मार्श के बल्ले का बाहरी किनारा लेकर विकेटकीपर के दस्तानों में चली गई। जसप्रीत बुमराह ने ऑस्ट्रेलिया को एक और तगड़ा झटका दिया। उन्होंने कंगारू कप्तान टिम पैन (41) की संघर्षपूर्ण पारी पर पानी फेर दिया। बुमराह ने पैन को भी विकेटकीपर पंत के हाथों कैच आउट कराया। कंगारू कप्तान ने शॉर्ट गेंद पर पुल शॉट लगाने का प्रयास किया, लेकिन उनकी टाइमिंग अच्छी नहीं रही। गेंद हवा में गई, विकेटकीपर पंत ने आगे दौड़कर आसान कैच लपक लिया।
यहां से मिचेल स्टार्क (28) और पेट कमिंस ने सातवें विकेट के लिए 41 रन की साझेदारी करके टीम इंडिया की मुश्किलें बढ़ाने की कोशिश की। दोनों ने भारतीय गेंदबाजों का डटकर मुकाबला किया। फिर शमी ने एक बहुत अच्छी गेंद डाली, जो स्टार्क के बल्ले का किनारा लेकर विकेटकीपर पंत के हाथों में गई। टीम इंडिया को आठवीं सफलता मिली। स्टार्क का कैच लेते ही पंत ने भी एक टेस्ट में विकेटकीपर द्वारा सर्वाधिक कैच लेने के वर्ल्ड रिकॉर्ड की बराबरी की। इसके बाद पैट कमिंस (28) ने लियोन के साथ 9वें विकेट के लिए 31 रन की साझेदारी करते हुए मैच का रोमांच बरकरार रखा। बुमराह ने कमिंस को स्लिप में कप्तान विराट कोहली के हाथों कैच करवाकर टीम इंडिया को जीत के करीब पहुंचा दिया। फिर नाथन लियोन और जोश हेजलवुड ने कुछ देर पिच पर टिककर मै च का रोमांच चरम पर पहुंचा दिया। दोनों मैच को बेहद नजदीक ले गए। एक समय क्रिकेट पंडित भी नहीं बता पा रहे थे कि टेस्ट किसके पक्ष में जाएगा। फिर अश्विन की फिरकी का जादू चला और उन्होंने जोश हेजलवुड को दूसरी स्लिप में केएल राहुल के हाथों कैच करवाकर टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दिला दी। टीम इंडिया की तरफ से रविचंद्रन अश्विन, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह ने तीन-तीन विकेट चटकाए, जबकि इशांत शर्मा को एक सफलता मिली।