बुलंदशहर में आईएसआई एजेंट गिरफ्तार, प्रतिबंधित क्षेत्रों के दस्तावेज व नक्शा बरामद

0
342

मेरठ/बुलंदशहर : स्वाट टीम व कोतवाली देहात पुलिस की टीम ने शुक्रवार की देर रात पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के एजेंट को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए एजेंट के कब्जे से पुलिस ने गोपनीय और प्रतिबंधित दस्तावेज के साथ ही प्रतिबंधित क्षेत्र के नक्शे बरामद किए हैं। खुफिया एजेंसी आरोपी से पूछताछ कर रही है।

बुलंदशहर कोतवाली देहात में शनिवार को आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी सिटी डॉ. प्रवीन कुमार रंजन ने बताया कि खुफिया विभाग से सूचना मिली कि खुर्जा नगर का रहने वाला एक व्यक्ति पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के एजेंट के रूप में काम कर रहा है। वह भारतीय सेना की गतिविधियों व प्रतिबंधित गोपनीय दस्तावेज एवं सैन्य ठिकानों के नक्शे के साथ ही महत्वपूर्ण जानकारियां इकट्ठा कर विभिन्न माध्यमों से पाकिस्तान भेज रहा है।

इस सूचना पर आरोपित की गिरफ्तारी के लिए स्वाट टीम प्रभारी विवेक शर्मा और कोतवाली देहात इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर को कई पुलिस कर्मियों के साथ लगाया गया। शुक्रवार की रात करीब साढ़े दस बजे टीम ने मुखबिर की सूचना पर बुलंदशहर के भूड़ चौराहे के पास से आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। तलाशी में उसके कब्जे से गोपनीय एवं प्रतिबंधित दस्तावेज के साथ ही प्रतिबंधित क्षेत्र के नक्शे, एक मोबाइल, वोटर कार्ड, आधार कार्ड और 2540 रुपये बरामद हुए।
पकड़े गए एजेंट का नाम जाहिद पुत्र अलीम निवासी मोहल्ला तरीनान निवासी खुर्जा है। एसपी सिटी ने बताया कि जाहिद से पूछताछ में पता चला कि वह दो बार 2012 और 2014 में पाकिस्तान गया था। उसी दौरान वह पाक एजेंसी आईएसआई के संपर्क में आया। पाक एजेंसी ने उसे भारत के महत्वपूर्ण ठिकानों एवं गोपनीय दस्तावेजों की जानकारी उपलब्ध कराने का टास्क दिया था। इसके बाद से वह वाट्सएप के माध्यम से पाकिस्तान को जानकारी भेजता रहा।
एसपी सिटी ने बताया कि जाहिद से पूछताछ में उसके दो साथियों के भी देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने की जानकारी मिली है। इनकी गोपनीय रूप से जांच की जा रही है। जाहिद के खिलाफ कोतवाली देहात में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान आईएसआई एजेंट जाहिद हर महीने मेरठ आता था। वह मेरठ कैंट के कई सैन्य इकाइयों के आसपास दिनभर मंडराता था और वाट्सएप कॉल करके मेरठ कैंट के क्षेत्र को पाकिस्तान में दिखाता था। खुर्जा पुलिस ने आरोपित का मोबाइल नंबर चेक किया तो पता चला कि उसके मोबाइल में पाकिस्तान के 19 नंबर सेव हैं। पुलिस और खुफिया जांच एजेंसी पता लगा रही है कि इन नंबरों में आईएसआई के सदस्यों के कितने नंबर हैं। शनिवार की सुबह जाहिद से पूछताछ के लिए दिल्ली से भी एक जांच एजेंसी आ सकती है।
खुर्जा निवासी जाहिद का मुख्य टारगेट मेरठ कैंट और गाजियाबाद स्थित एयर फोर्स का हिंडन एयरबेस था। इस कारण वह महीने में तीन से चार बार मेरठ तथा सात से आठ बार गाजियाबाद हिंडन एयरबेस पर जाता था। आरोपित के मोबाइल में मेरठ कैंट, गाजियाबाद हिंडन एयरबेस की कुछ तस्वीरें भी मिली हैं। अारोप है कि उसने वाट्सएप और स्काइप कॉल के जरिए कई बार पाकिस्तान में वीडियो कॉल पर बातचीत की थी। पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपित के पास से मिले मोबाइल में मेरठ के रहने वाले कई युवकों के भी नंबर मिले हैं, जो जांच के घेरे में है। इसके अलावा पुलिस यह भी पता लगाने में जुटी है कि हाल ही में पकड़े गए सेना के जासूस कंचन से तो उसका कोई संपर्क नहीं था। जाहिद के पास से एक बैग मिला है, जिसमें मेरठ और गाजियाबाद जिले का नक्शा भी है। उसके पास से नकदी भी मिली है।
पुलिस सूत्रों की माने तो जाहिद पर क्राइम ब्रांच पिछले कई माह से नजर रखे हुए थी। आसपास के लोगों से जानकारी जुटाई तो पता चला कि जाहिद कभी बेहद गरीब हुआ करता था। वह मजदूरी करता था, लेकिन कम समय में ही उसने आलीशान मकान बना लिया। इसके बाद क्राइम ब्रांच बुलंदशहर को पता चला कि वह पाकिस्‍तान भी गया था। उसका नंबर सर्विलांस पर लेकर लगातार सुना गया तो शक यकीन में बदल गया कि वह आइएसआइ एजेंट है। फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। उनका कहना है कि जाहिद से काफी कुछ अहम जानकारी हाथ लग सकती है, जो देश की सुरक्षा के लिहाज से बेहद अहम है।खुफिया एजेंसी की गिरफ्त में आया जाहिद नौवीं पास है। वह पॉटरी नगरी में क्राकरी उत्पादों पर पेंटिंग करता था। वह छह भाइयों में सबसे छोटा है। उसने अभी तक शादी भी नहीं की है। परिजनों ने बताया कि आजादी के समय बंटवारे के दौरान उनके नाना-नानी, मामू पाकिस्तान चले गए थे। उनसे मिलने के लिए वह दो बार पाकिस्तान गया था।
खुर्जा निवासी जाहिद का मुख्य टारगेट मेरठ कैंट और गाजियाबाद स्थित एयर फोर्स का हिंडन एयरबेस था। इस कारण वह महीने में तीन से चार बार मेरठ तथा सात से आठ बार गाजियाबाद हिंडन एयरबेस पर जाता था। आरोपित के मोबाइल में मेरठ कैंट, गाजियाबाद हिंडन एयरबेस की कुछ तस्वीरें भी मिली हैं। अारोप है कि उसने वाट्सएप और स्काइप कॉल के जरिए कई बार पाकिस्तान में वीडियो कॉल पर बातचीत की थी। पुलिस सूत्रों का कहना है कि आरोपित के पास से मिले मोबाइल में मेरठ के रहने वाले कई युवकों के भी नंबर मिले हैं, जो जांच के घेरे में है। इसके अलावा पुलिस यह भी पता लगाने में जुटी है कि हाल ही में पकड़े गए सेना के जासूस कंचन से तो उसका कोई संपर्क नहीं था। जाहिद के पास से एक बैग मिला है, जिसमें मेरठ और गाजियाबाद जिले का नक्शा भी है। उसके पास से नकदी भी मिली है।
पुलिस सूत्रों की माने तो जाहिद पर क्राइम ब्रांच पिछले कई माह से नजर रखे हुए थी। आसपास के लोगों से जानकारी जुटाई तो पता चला कि जाहिद कभी बेहद गरीब हुआ करता था। वह मजदूरी करता था, लेकिन कम समय में ही उसने आलीशान मकान बना लिया। इसके बाद क्राइम ब्रांच बुलंदशहर को पता चला कि वह पाकिस्‍तान भी गया था। उसका नंबर सर्विलांस पर लेकर लगातार सुना गया तो शक यकीन में बदल गया कि वह आइएसआइ एजेंट है। फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। उनका कहना है कि जाहिद से काफी कुछ अहम जानकारी हाथ लग सकती है, जो देश की सुरक्षा के लिहाज से बेहद अहम है।खुफिया एजेंसी की गिरफ्त में आया जाहिद नौवीं पास है। वह पॉटरी नगरी में क्राकरी उत्पादों पर पेंटिंग करता था। वह छह भाइयों में सबसे छोटा है। उसने अभी तक शादी भी नहीं की है। परिजनों ने बताया कि आजादी के समय बंटवारे के दौरान उनके नाना-नानी, मामू पाकिस्तान चले गए थे। उनसे मिलने के लिए वह दो बार पाकिस्तान गया था।