एनटीपीसी में आग से भगदड़, पुराना हादसा यादकर सिहरे लोग

0
233
रायबरेली : ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी की छठी यूनिट में मंगलवार की दोपहर मरम्मत कार्य के दौरान अचानक आग लग गई। यूनिट से तेज धुआं निकलते देख अधिकारी और मजदूर दहशत में आ गए। इसके बाद वहां भगदड़ मच गई। आनन-फानन में फायर ब्रिगेड को बुलाकर आग पर काबू पाया गया। एनटीपीसी प्रबंधन इस घटना में मामूली नुकसान की बात कह रहा है। उल्लेखनीय है कि साल भर पहले एनटीपीसी में हुए हादसे में तीन अधिकारियों समेत 45 लोगों की मौत हो गई थी। तब से बंद पड़ी यूनिट में मरम्मत कार्य चल रहा है।
एनटीपीसी की पांच सौ मेगावाट क्षमता वाली यूनिट नंबर छह से हादसों का रिश्ता खत्म नहीं हो रहा है। एक साल पहले हुए हादसे के कारण बंद चल रही इस यूनिट को दुरुस्त करके पुन: चलाने की तैयारी अंतिम चरण में है। मंगलवार दोपहर लगभग 12.30 बजे यूनिट में 22 मीटर की ऊंचाई पर काम करते समय स्पार्किंग से केबल ट्रॉली में आग लग गई। इससे तेज धुआं निकला और यूनिट में काम कर रहे अधिकारियों और मजदूरों में भगदड़ मच गई। आनन-फानन में आपातकालीन सेवाओं को सजग कर दिया गया। मौके पर तुरंत सीआईएसएफ की दमकल गाड़ियां पहुंच गईं और आग पर काबू पा लिया गया। इस दौरान पूरे संयंत्र क्षेत्र में अफरा-तफरी का माहौल रहा। बाद में पता चला कि यूनिट के अंदर बिल्डिंग का भी काम चल रहा था, जिससे स्पार्किंग हुई।
एनटीपीसी का उच्च प्रबंधन दुर्घटनाग्रस्त यूनिट को जल्द से जल्द पुन: चलाना चाहता है। यूनिट में मरम्मत का काम अंतिम चरण में है। ऐसा समझा जा रहा था कि एक सप्ताह के अंदर इस यूनिट को नए सिरे बिजली उत्पादन के लिए चलाया जाएगा। इसीलिए एनटीपीसी मुख्यालय से निदेशक परियोजना एसके राय इस समय ऊंचाहार आए हुए हैं। निदेशक की मौजूदगी में इस यूनिट में आग लगने की घटना हुई है। इससे पहले 19 सितंबर को भी इसी यूनिट की केबल ट्रॉली में आग लग गई थी।
दुर्घटना के बारे में एनटीपीसी के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी एके श्रीवास्तव से संपर्क किया गया, लेकिन उनसे बात नहीं हो सकी। जनसंपर्क प्रभाग में सहायक आज्ञा शरण सिंह ने बताया कि स्पार्किंग की मामूली घटना से कुछ केबल को नुकसान हुआ है। उन्हें दुरुस्त करने का काम भी शुरू कर दिया गया है। एक नवंबर 2017 को एनटीपीसी की छह नंबर यूनिट के ब्वायलर में विस्फोट से बड़ा हादसा हुआ था। इसमें एनटीपीसी के तीन अतिरिक्त महाप्रबंधक समेत कुल 45 लोगों की मौत हो गई थी। तब से यह यूनिट बंद चल रही है। पिछले छह माह से यूनिट में मरम्मत का काम चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here