यूपी समेत छह राज्यों  में आंधी-तूफान ने मचाई तबाही, 62 लोगों की मौत

0
517

नई दिल्ली : रविवार की शाम आई धूल भरी आंधी, बारिश और ओलावृष्टि ने यूपी समेत छह राज्यों में भारी तबाही मचाई है। अकेले उत्तर प्रदेश में आंधी-बारिश, ओलावृष्टि और आग से 38 लोगों की मौत हो गई, जबकि बंगाल में 12, आंध्र प्रदेश में नौ और छत्तीसगढ़ में सात लोगों की जान गई है। दिल्ली समेत पूरा एनसीआर पर भी इसका असर देखने को मिला है। कई इलाकों में दिन में ही अंधेरा छा गया। इस दौरान दिल्ली, गुरुग्राम और नोएडा के कई इलाकों की बिजली भी गुल हो गई। दिल्ली में 21 जगहों पर पेड़ गिरने की सूचना है। कई जगहों पर होर्डिंग टूट कर सड़कों पर गिर गए हैं, जिनसे सड़क यातायात बाधित हुआ है। मौसम के बिगड़े मिजाज की वजह से दिल्ली एयरपोर्ट पर हवाई यातायात भी प्रभावित हुआ है। अब तक 70 फ्लाइट को डायवर्ट करने की खबर है। 30 मिनट के लिए दिल्ली मेट्रो की सर्विस भी रोकी गई थी। आंधी-तूफान का कहर अभी खत्म नहीं हुआ है। मौसम विभाग ने सोमवार और मंगलवार को भी तूफान की चेतावनी जारी की है। आज उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, पश्चिमी उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर के कुछ इलाकों में आंधी-तूफान के साथ बारिश हो सकती है।

रविवार की शाम आई धूल भरी आंधी-बारिश और ओलावृष्टि ने सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में तबाही मचाई है। यहां पर पेड़ और होर्डिंग गिरने से कई लोगों की जान गई है। कासगंज में सबसे अधिक पांच लोगों की मौत हुई है। ग्रेटर नोएडा में होर्डिंग के नीचे दबकर बाइक सवार महिला जैबुन्निसा की मौत हो गई, जबकि गाजियाबाद में कार पर पेड़ गिरने से ड्राइवर की जान चली गई। सहारनपुर में बिजली गिरने से खेत में काम कर रहे दो लोगों की झुलसकर मौत हो गई। कुल मिलाकर इस आपदा ने उत्तर प्रदेश में 38 लोगों की मौत हो गई है।
दिल्ली में रविवार की सुबह काफी गर्मी थी। यहां न्यूनतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री अधिक 30.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मुताबिक यह इस सीजन की सबसे गर्म सुबह रही। मौसम विभाग ने रविवार को तेज हवा के साथ बूंदाबादी होने की संभावना जताई थी।
दिल्ली-एनसीआर में हवा की रफ्तार काफी तेज थी। यहां भी कई जगहों पर पेड़ के गिरने की खबर है। इनमें दुर्गापुरी चौक, प्रीत विहार, एम्स के पास, भगत सिंह मार्ग, वीर सिंह मार्ग, तीन मूर्ती इलाका शामिल हैं। खराब मौसम का असर मेट्रो सेवा पर भी पड़ा है। आंधी-तूफान की वजह से नोएडा-द्वारका लाइन पर मेट्रो परिचालन 30 मिनट तक ठप था। फिलहाल अब इस लाइन पर मेट्रो परिचालन सामान्य हो गया है। जानकारी के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर के साथ पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश में आंधी-तूफान आने की संभावना है। वहीं, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) ने शनिवार को चेतावनी दी थी कि दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई इलाकों में रविवार को तूफान आ सकता है। वहीं, राजस्थान के कई हिस्सों में अगले दो दिनों में धूल भरी आंधी चल सकती है।

यहां पर बता दें कि पिछले दिनों उत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में मौसम का मिजाज बेहद खतरनाक बना हुआ था। धूल भरी आंधी व तूफान की वजह से कई शहरों में जनजीवन भी प्रभावित हुआ है। उत्तर प्रदेश और राजस्थान में ही 100 से अधिक लोग आधी-तूफान की चपेट में आकर मारे गए थे।

दिल्ली-एनसीआर में हवा की रफ्तार काफी तेज थी। यहां भी कई जगहों पर पेड़ के गिरने की खबर है। इनमें दुर्गापुरी चौक, प्रीत विहार, एम्स के पास, भगत सिंह मार्ग, वीर सिंह मार्ग, तीन मूर्ती इलाका शामिल हैं। खराब मौसम का असर मेट्रो सेवा पर भी पड़ा है। आंधी-तूफान की वजह से नोएडा-द्वारका लाइन पर मेट्रो परिचालन 30 मिनट तक ठप था। फिलहाल अब इस लाइन पर मेट्रो परिचालन सामान्य हो गया है। जानकारी के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर के साथ पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश में आंधी-तूफान आने की संभावना है। वहीं, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) ने शनिवार को चेतावनी दी थी कि दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई इलाकों में रविवार को तूफान आ सकता है। वहीं, राजस्थान के कई हिस्सों में अगले दो दिनों में धूल भरी आंधी चल सकती है।

यहां पर बता दें कि पिछले दिनों उत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में मौसम का मिजाज बेहद खतरनाक बना हुआ था। धूल भरी आंधी व तूफान की वजह से कई शहरों में जनजीवन भी प्रभावित हुआ है। उत्तर प्रदेश और राजस्थान में ही 100 से अधिक लोग आधी-तूफान की चपेट में आकर मारे गए थे।