इराक से लाए गए मृत भारतीयों के अवशेष

0
540

नई दिल्ली : इराक के मोसुल में आतंकी संगठन आईएसआईएस के हाथों मारे गए 38 भारतीयों के शवों के अवशेष भारत आ गए हैं। मारे गए इन लोगों में 27 युवक पंजाब के रहने वाले थे। ये सभी लोग अवैध रूप से वहां पैसा कमाने के लिए गए थे। विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह एक विशेष विमान से आज शवों के अवशेष के साथ अमृतसर पहुंचे। पंजाब सरकार के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू इस मोके पर मौजूद थे।

गौरतलब है कि इराक के मोसुल में अवैध रूप से पैसा कमाने गए 39 भारतीयों की आतंकी संगठन आईएसआईएस ने अगवा कर हत्या कर दी थी। पुख्ता सबूतों के अभाव में भारत सरकार यह कहने की स्थिति में नहीं थी कि इन सबों की हत्या कर दी गई है। पिछले दिनों डीएनए के मिलान के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद में उनके मारे जाने की घोषणा की। इसके बाद विरोधी दलों के नेताओं इस पर काफी हंगामा किया था। बाद में इराक में मारे गए लोगों के शवों के अवशेष लाने की व्यवस्था की गई। इसी के तहत रविवार को विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह एक विशेष विमान सेइराक गए थे। सोमवार को 38 भारतीयों के शवों के अवशेष के साथ विशेष विमान सबसे पहले अमृतसर पहुंचा। यहां मारे गए पंजाबी युवकों के शवों के अवशेष एयरपोर्ट से उनके परिजनों को सौंपे जा रहे हैं। जो लोग अवशेष लेने नहीं पहुंचे हैं, उनके अवशेष एयरपोर्ट से गांव तक पहुंचाने की व्यवस्था सरकार की ओर से की गई है।

अमृतसर में पत्रकारों से बात करते हुए वीके सिंह ने कहा, ‘बहुत मुश्किल से मृतकों का डीएनए सैंपल मैच हुआ है। ट्रेंड लोगों ने पूरी समझदारी के साथ मृतकों के डीएनए सैंपल मैच कराए हैं। यह काफी मुश्किल काम था। भारत सरकार की तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ी गई थी। मैं चार बार इराक गया था। इसके बाद मारे गए भारतीयों के शवों के अवशेष लाए जा सके हैं।’ वीके सिंह ने आगे कहा, ‘मैं पहली बार 11 जुलाई को इराक गया था। उस समय वहां युद्ध पूरी तरह खत्म नहीं हुआ था। उस समय हमें वहां से जो जानकारी मिली, वह लेकर मैं चला आया। फिर अक्टूबर में मैं इराक मेंनवहां गया, जहां भारतीय लोग काम करते थे। उस फैक्ट्री के मालिक को पकड़ा और उससे भारतीयों की जानकारी मांगी। रेडियो पर उदघोषणा करवाई। मोसुल के बदूश पहाड़ी में भारतीयों के अवशेष मिले।’ 

पंजाब सरकार ने मारे गए लोगों के परिजनों को 5 लाख रुपये का मुआवजा और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है।

बता दें कि विमान में पंजाब के 27, बिहार के छह, हिमाचल के चार और बंगाल के दो लोगों के शवों के अवशेष भारत पहुंचे हैं। जानकारी के मुताबिक 39वें शव के डीएनए सहित अन्य जांच की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई है। ऐसे में 39वें शव टटके लिए बाद में प्रयास किया जाएगा। वीके सिंह ने बताया कि परिजनों को किसी प्रकार का शक न हो, इसलिए शव सौंपते समय उन्हें सबूत भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

गौरतलब है कि सभी मारे गए भारतीयों के अवशेष को ताबूत में रखा गया है। वीके सिंह ने खुद सहारा देकर सभी ताबूतों को विमान में रखा। वीके सिंह ने ट्वीट कर कहा कि कुछ जिम्मेदारियों का बोझ काफी ज्यादा होता है।