चारा घोटाला : एक और मामले में लालू को चौदह साल की जेल।

0
464

रांची : चारा घोटाले से जुड़े एक और मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को चौदह साल जेल की सजा सुनाई गई है। साथ ही उन पर 60 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। सीबीआई स्पेशल कोर्ट के जज शिवपाल सिंह ने ये फैसला सुनाया है। लालू यादव को आईपीसी तथा करप्शन एक्ट के तहत सात-सात साल (कुल चौदह साल) जेल की सजा सुनाई गई है। दोनों सजाएं अलग-अलग चलेंगी।

गौरतलब है कि दुमका ट्रेजरी से दिसंबर 1995 से जनवरी 1996 के बीच गैर-कानूनी तरीके से 3.76 करोड़ रुपए निकाले गए थे। इस मामले में सीबीआई ने 11 अप्रैल 1996 को लालू यादव समेत 48 आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। इस मामले में 11 मई 2000 को पहली चार्जशीट दाखिल हुई थी। दुमका ट्रेजरी घोटाला मामले में आज शनिवार को फैसला आना था। लालू यादव अस्पताल में इलाज करा रहे हैं, इस कारण वे वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए पेश हुए थे। इससे पहले सीबीआई स्पेशल कोर्ट के जज शिवपाल सिंह ने इस ट्रेजरी केस में 19 मार्च को लालू को दोषी माना था, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को बरी कर दिया था। उसी मामले में शनिवार को लालू यादव को सजा सुनाई गई है।

सीबीआई के वकील ने शनिवार को इस फैसले के बारे में बताया कि कोर्ट ने लालू यादव को आईपीसी और करप्शन एक्ट के तहत 7-7 साल ( कुल 14 साल) जेल की सजा सुनाई है। सीबीआई के वकील ने यह भी स्पष्ट किया कि दोनों सजाएं अलग-अलग चलेंगी।

गौरतलब है कि लालू यादव पर चारा घोटाले से जुड़े 6 मामले दर्ज हैं। आज चौथे मामले में सजा हुई है। तीन मामलों में लालू यादव को पहले ही सजा हो चुकी है, जबकि दो मामलों में अभी फैसला आना बाकी है।