तीन तलाक बिल : भाजपा को हर हाल में लाभ

0
734

तीन तलाक विरोधी बिल लोकसभा में पास हो गया। यह बिल अब राज्यसभा में पेश किया जाएगा। यहां इस बिल का काफी विरोध होगा। इस बिल के राज्यसभा से पास हो जाने पर भारतीय जनता पार्टी के साथ ही उन दलों को भी थोड़ा-बहुत राजनीतिक लाभ मिलेगा, जो दल इस बिल का समर्थन करेंगे। इसके उलट यह बिल राज्यसभा में लटक गया तो भी भारतीय जनता पार्टी को लाभ मिलेगा, जबकि इस बिल का विरोध करने वाले दलों को हर हाल में हानि ही होगी। यानी भारतीय जनता पार्टी को दोनों ही स्तिथि में लाभ है।

तीन तलाक बिल लोकसभा में बहुमत से पास हो गया। इसके विरोध में महज दो वोट पड़े। अब इसे राज्यसभा में पेश होना है। यदि वहां भी यह बिल लोकसभा की तरह पास हो गया तो इसका राजनीतिक लाभ भारतीय जनता पार्टी समेत उन सभी दलों को मिलेगा, जिन दलों ने इसका समर्थन किया है। हां, लाभ का प्रतिशत किसी दल को कम या ज्यादा हो सकता है। इसके उलट राज्यसभा में यह बिल लटक गया तो भारतीय जनता पार्टी डंके की चोट पर यह कहेगी कि उच्च सदन में बहुमत नहीं होने के बाद भी उसने इस बिल को पास कराने की हर संभव कोशिश की। भारतीय जनता पार्टी इस बिल के राज्यसभा में पास न होने का ठीकरा भी उन दलों पर फोड़ेगी,  जो दल इस बिल का विरोध करेंगे। वह चुनाव के समय में इसका जिक्र कर इसका राजनीतिक लाभ उठाने की भी भरपूर कोशिश करेगी। इसके अलावा इस बिल का विरोध करने वाले दलों को मुसलिम महिलाओं का साथ कतई नहीं मिलेगा। चुनावी समर में उन्हें वोट प्रतिशत का नुकसान अवश्य होगा। यानी चुनावी गणित में भाजपा को दोनों ही स्तिथि में लाभ हो रहा है। बहरहाल, समर्थन करने वाले दलों को लाभ और विरोध करने वाले दलों को हानि तय है। देखना है राज्यसभा में ऊंट किस करवट बैठता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here