ग्वालियर. दिन भर चिथड़ों में कबाड़ा-कचरा बीनने वाले टीनेजर रात को ब्रांडेड कपड़े, शूज़ और गैजेट्स के साथ निकलते थे। इनकी लाइफ-स्टाइल के बारे में जान पुलिस का माथा ठनका, देर रात नशे में देख इन्हें पकड़ कर पूछताछ हुई तो शहर की दर्जन भर चोरियों के राज उगल दिए।अफसर उस वक्त सन्न रह गए जब टीनेजर शातिरों ने बताया कि गश्त की कमियों का फायदा उठा कर वारदात के बाद ये कैसे सेफ निकल जाते थे। इलाके से एक बार गश्त कर वापस नहीं लौटती पुलिस….

पुणे से करीब 200 किलोमीटर दूर शिगनापुर गांव में शनिदेव का प्राचीन मंदिर है।

– मान्यता है कि, यहां किसी घर में चोरी नहीं हो सकती और जो चोरी करता है वह गांव की सीमा से बाहर नहीं जा सकता है। खुद शनि देव यहां लोगों की रक्षा करते हैं।
– यहां पर शनिदेव एक काले पत्थर के रूप में स्थापित हैं। जिन्हें लेकर मान्यता है कि यहां का विग्रह अपने आप प्रकट हुआ था, जिसके कारण इसे साक्षात शनिदेव का रूप माना जाता है।
– यहां घरों में दरवाजों की चौखटें तो लगी हुई हैं, लेकिन उनमे दरवाजे नहीं है। यही नहीं लोग अपने घरों में रखे बक्सों में भी ताला नहीं लगाते। वे खुले में ही कैश और ज्वैलरी रखते हैं।

 टॉयलेट, बैंक में भी नहीं हैं दरवाजे
– इस गांव में तो पिछले कुछ समय से टॉयलेट्स में भी दरवाजे नहीं लगते थे, मगर महिलाओं की मांग पर यहां टॉयलेट के बाहर पर्दा लगाने का काम शुरू हुआ।
– इस पूरी परंपरा को आगे बढाते हुए UCO Bank ने यहां बिना किसी ताले लगे दरवाजे का एक बैंक खोला है। हालांकि, लोगों को यह न लगे कि उन के पैसे की हिफाजत नहीं हो रही, इसलिए 24 घंटे बैंक के दो गार्ड यहां तैनात रहते हैं।
– बैंक के बगल में एटीएम भी लगा हुआ है, जिसमें कोई लॉक नहीं लगाया गया है। यहां पुलिस स्टेशन में भी कभी कोई चोरी का केस दर्ज नहीं होता।
– इस अजीब संस्कृति और परंपरा को देखने के लिए सिर्फ देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया से टूरिस्ट यहां आते हैं।